Home समाज-सरोकार दारू खरीदती इस महिला को प्रणाम बोलिए

दारू खरीदती इस महिला को प्रणाम बोलिए

E-mail Print PDF
User Rating: / 10
PoorBest 

: यहां नशे की गिरफ्त में हैं महिलाएं और बच्‍चे : राजस्थान के ग्रामीण अंचल में इन दिनों शराब का काफी प्रचलन बढ़ने लगा है। कई घर उजाड़ चुके तथा बड़े कांड करवाने वाला यह नशा अब महिला व बच्चों पर भी अपना रंग चढ़ाता नजर आ रहा है। आने वाली युवा पीढ़ी जो देश का भविष्य है का आकर्षण इसकी और बढ़ रहा है, वही सबसे ज्यादा इसका शिकार हो रही है। सरकारी आबकारी नीति के चलते गांव-गांव ढाणी-ढाणी में खुली शराब की दुकानों ने इसकी खरीद खरीद आसान करने के साथ युवा वर्ग को इस और आकर्षित कर लिया है। शराब की दुकानों पर खरीद के लिए कम उम्र के बच्चे भी बेझिझक पहुंच रहे है। वहीं शराब पीने के मामले में महिलाएं भी पीछे नहीं रही है।

शराबमहिलाओं द्वारा भी बड़ी संख्या में शराब का सेवन किया जा रहा है, इसमें ज्यादातर संख्या मजदूर वर्ग के तहत आने वाली महिलाओं की है, जो दिन भर खून पसीना बहाकर अपनी मेहनत के पैसे से शराब का सेवन कर अपने परिवार को आर्थिक रूप से पीछे धकेल रही है और साथ ही अपने बच्चों में गलत संस्कारों का समावेश भी कर रही है। एक दिन ग्रामीण क्षेत्र के प्रवास के दौरान बारां जिले के मांगरोल उपखंड में स्थित बमोरीकलां तिराहे पर स्थित अंग्रेजी शराब की दुकान पर देखने को मिला, जब दो महिलाएं शराब की दुकान पर बेखौफ खड़ी शराब लेती नजर आईं। सरकार को चाहिए की शराब की दुकानों को पांबद किया जाये कि कम उम्र के बच्चों को शराब नहीं बेची जाए तथा शराब की लत से दूर रखने के लिए महिलाओं को प्रेरित करने का प्रचार अभियान शुरू किया जाए।

लेखक रघुवीर शर्मा कोटा के रहने वाले हैं. बचपन अभावों और संघर्षों के बीच गुजरा. ऑपरेटर के रूप में दैनिक नवज्‍योति से काम शुरू किया. मेहनत के बल पर संपादकीय विभाग में पहुंचे. लेखन और चिंतन करने का शौक है. वैचारिक स्‍वतंत्रता के समर्थक रघुवीर ब्‍लागर भी हैं. अपनी भावनाओं को अपने ब्‍लाग पर उकेरते रहते हैं.

Comments
Search RSS
उपदेश देने के लिये ये जगह ठिक नही
मदन कुमार तिवारी 2011-02-27 22:33:52

क्या वाहियात बात करते हो यार । तुम सबके बाप हो क्या ? सबसे पहले तुम एक कसम खाओ मंदिर नही जाओगे, अपने बाल बच्चों को बेटा नही कहोगे , तब मैं तुम्हारी बात का ्समर्थन करुंगा , मेरी बात सर के उपर से गुजर गई न , जानता था । डीयर बाबा बन ना बंद करो और कोई कायदे की बात लिखो , तुम वैचारिक स्वतंत्रता के समर्थक कैसे हो सकते हो , जब अपनी बात थोपना चाहते हो ।
Lila Dhar Sharma 2011-02-27 23:46:17

रघुवीर जी, आप ये अच्‍छी बात बता रहें है की महिलाऐं व बच्‍चे शराब खरीदते है पर ये वर्जप पुराना है आपने महिलाओ और बच्‍चों को शराब खरीदते देखा है, मै इस पर खबर बना चुका हुं जो वॉयस ऑफ इंडिया पर चली थी और मैने इस खबर में राजस्‍थान में चल रहे अवैध शराब के कारोबार का खुलासा किया था । राजस्‍थान में आप महिलाओं व बच्‍चों को शराब नही बेचने की बात करते है पर राजस्‍थान में तो शराब बनाने का काम ही महिलाऐं व बच्‍चे ही करते है।
padan pathan se door page making ka kam karne wale
sanjai kumar 2011-02-28 20:29:38

wah bhai kya gajab kar dala , mahilaye puruso ke mukable bharat me na ke barabar sarab ka sewan karti hai.......sarab peene ki aadmiyo jyada aadat hoti hai.....apki article padh kar apne orkut friends me kota ke kuch dost dundhe ....aaapka nam aur ye article attech kar puch tach kari to pata chala ki aap khud bade piakkad hai aurr nav jyoti ke purane office me daru peekar kam karte the ...naye office me bhi karte honge ....maine aapke bare me ek lalit ji se bhi pucha ....unhone kaha sala bahut bada sarabi hai...........aur aap mahilao par kichad uchal rahe ho....wah bhai apne girehban me jhak kar dekho .......
kis nam se hai aapka blog
sudheer singh 2011-02-28 20:31:43

mahan ho bhai .........tum jaroor bahut bade wale ho............................................................
ye article bhadas manch layak nahi
sudheer singh 2011-02-28 20:41:47

yashwant ji ..waise main ek regular aur katter patahak hu bhadas ka is portel par aaj tak aesi ghatiya article nahi dekhi...ise ek aesa manch manta hu jo patkarita aur samaj ko aam sarokaro ke sath lekar chalti hai....aur mahilaye waise hi tamam dukkho se ghiri rahti hai....aap ke ...ya youn kaho ki apne bhadas par aesi article padh kar jo mahilao ki sakh gira rahi ho bahut dukh hua.........same yaswant .....aur same raghuveer ji aap nihayat hi gatiya aadmi hai....ikhne ko kuch aur nahi mila kya ......ekin tum likh hi nahi sakte kuch aaccha.....accha acchhha liko bhai....warna galiya hi milegi samaj se....
bahut badhiyaa
shekh chilli 2011-03-01 14:17:47

वाह जी वाह ! धन्य है आप जैसे पत्रकार और महारथी विचारक,जो एक महिला के द्वारा शराब "खुले आम" खरीदने को न्यायोचित ठहरा रहे है. कितनी महिलाए है ऐसी जो शराब बना रही है या कितने प्रतिशत महिलाए शराब पी रही है? यदि बच्चों को शराब बेचना है और महिलाओं के शराब खरीद की वकालत करनी है तो दोस्तों आप करिए,लेकिन में चाहूँगा की रघुवीर जी के ऐसे आलेख प्रकाशित होते रहे और आप जैसे(जिन्होंने इस आलेख को महिला विरोप्धि माना है) ज्ञानी लोग शराब पी कर विरोध करते रहे.लीलाधर जी को में बहुत अच्छे से जानता हु और ये भी जानता हु की इनकी शराब की आदतों के कारण ही ये हर जगह से निकाले gaye.में एक बार फिर से इस आलेख के lekhak को dhanyaawaad denaa chaahtaa हु.
bhadua giri band kar gambheerta ka kam kare
sudheer singh 2011-03-01 17:03:42

ek sarabi likhe ki sarab peena galat hai.....kaun yakeen kar lega...kuch gambheerta se socho aur apne girehwan me jahk le kya लेखक रघुवीर शर्मा कोटा sarab nahi peete.......kisi bhi varg par ungli wo utha sakta hai jo vyakti ye thathakatit aacharan na karta ho........yaswant ji aesa bhi lekh chapenge ye baharosa nahi hota..........yaswanan ji aap bhadas ko .....bakwas kyoun banana cahte hai........................padhne likhne layak manch rakhkhe.....shekh chilli ji urf....s..j..i aabhar aap jaise haramiyo ne hi patkarita ka mahol chaplosi karke kharab kar rakhha hai....
Anonymous 2011-03-01 20:01:19

:love: :idea: :evil: :angry-red: :angry: :D :x :no-comments: :pirate: :?: :( :sleep: :) ;) ;)) :0
kori bakvas hai
balveer vaid 2011-03-02 12:37:55

yah mahila sarab kahan kkharid rahi hai? yah to dukandar our dukan ke ander khadi dusri mahila se gup lada rahi hai. :pirate:
koe daru baj hi ye bat likh sakta hai
bhudhi sen 2011-03-06 13:11:31

ye bat jarroor koe darubaj ne likha hai...
deepak kumar 2011-07-25 08:05:10

राजस्‍थान में तो शराब बनाने का काम ही महिलाऐं व बच्‍चे ही करते है।
sharabi
sonu srivastava 2011-11-02 16:30:54

aab peney ke liye mahilao ko kisi bahaney ki jarurat nhi hai isme galat hi kya hai aaj mahilay bhi pursho ka barabar hai aur agar ye mahila kisi bar me baithe hoti to kisiko diqat nhi hoti hai lekin ye dukan pe nazar aa rhi hai isi liye itna bhochak ho rhe hai log :
AABKARI KI LACHILI NITI -SAB BANE DAARU BAAZ
BRIJESH KUMAR PATHAK 2012-06-07 08:49:25

Ye lekh do maayno mein behater hai ek ye
aabkari veebhag ki daryadili darsha raha hai .dusra desh ko sanskaar dene wali maa nashe ke giraft mein hai .sochiye hamara kal kaisa hoga.
jai baba patiya nath
rame je ram 2012-08-29 20:37:02

i know you live a village in your an some time om toyj.
Lafda
Baba 2013-08-27 16:24:57

,,,,,,,,,,Yar tum sab ye lafde me kyo pade ho ......sanny leone ka new video aaya he ,,,,


llllllllllllllllllllllllllloooooooooooovvvvvvvvvvv....2013 ...enjoy....&,,,,joy....by brother :ooo:
Only registered users can write comments!
 

latest20

popular20