लखनऊ। महाराष्ट की तरह उत्तर प्रदेश में पत्रकारों और मीडिया संस्थानों पर हमला गैर जमानती अपराध हो। यह मांग उत्तर प्रदेश जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन (उपजा) ने प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से की है। उत्तर प्रदेश जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन (उपजा) के प्रान्तीय महामंत्री रमेश चन्द जैन और लखनऊ जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन के अध्यक्ष अरविन्द शुक्ला ने कहा कि उत्तर प्रदेश जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन व इसकी राष्ट्रीय इकाई नेशनल यूनियन आफ जर्नलिस्ट्स एनयूजे (आई) पिछले काफी समय से पत्रकार एवं पत्रकार संगठनों पर हो रहे हमलों से आहत होकर पत्रकार सुरक्षा कानून बनाये जाने की मांग कर रहा था और संगठन ने पत्रकार सुरक्षा कानून बनाये जाने की मांग को लेकर गत् 7 दिसम्बर 2015 को संसद का घेराव भी किया था गत् 7 दिसम्बर 2016 को उत्तर प्रदेश के राज्यपाल महोदय को इसी आशय का ज्ञापन भी सौंपा था।

महामंत्री रमेश चन्द जैन ने मांग की कि उत्तर प्रदेश मे भी हो पत्रकारों पर हमला गैर जमानती और नई योगी सरकार भी कानून बनाये तथा पत्रकारों एवं पत्रकार संगठनों पर हमला करने वाले को तीन साल की सजा अथवा 50000 रुपये का जुर्माना लगाने हमले में हुए नुकसान या फिर पत्रकारों के इलाज का खर्च भी हमलावर से वूसल किया जाय। उल्लेखनीय है कि महाराष्ट्र में बजट सत्र के अंतिम दिन बिना किसी चर्चा के दोनों सदनों में पत्रकारों और मीडिया संस्थानों पर हमला गैर जमानती अपराध हो इस विधेयक को मंजूर कर लिया गया। विधेयक में कानून का दुरुपयोग करने वालों के खिलाफ भी कार्यवाही का प्रावधान किया गया है।

अरविन्द शुक्ला
अध्यक्ष
लखनऊ जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन
मों0-9935509633